प्रकृति और नारी का अस्तित्व

अन्वेषक: संघीता श्रीराम व्यवसाय: आध्यात्मिक एक्टिविस्ट स्थान: तिरुवन्नामलाई, तमिलनाडु वह एक लेखक है, एक एक्टिविस्ट है, एक उद्यमी है, एक शिक्षाविद् है, एक संयोजक है, एक बागवान है, एक गायिका है, एक कलाकार है। वह एक औरत है और एक माँ भी... पर वह खुद को एक यात्री कहलाना पसंद करती है। एक ऐसी यात्री जो निरंतर अपने जीवन के अनुभवों से सीखते हुए और उनसे उभरकर आए सवालों के जवाब खोजते हुए एक ऐसे पथ पर यात्रा कर रही है जहाँ कोई मंज़िल नहीं है, बस है तो कुछ पड़ाव। जहाँ उसे कुछ समय रुककर आगे बढ़ जाना है। मैं बात कर रहा हूँ हमारे अगले परिंदे संगीता श्रीराम…

View details

सपनो का आशियाना…

“Travel is fatal to prejudice, bigotry, and narrow-mindedness, and many of our people need it sorely on these accounts. Broad, wholesome, charitable views of men and things cannot be acquired by vegetating in one little corner of the earth all one’s lifetime.” – Mark Twain एक बच्चे के युवक बनने की प्रक्रिया में शिक्षा का अहम स्थान होता है और उस शिक्षा को प्राप्त करने के लिए जरूरी है, नए अनुभव प्राप्त करना। इन अनुभवों को हम चार दीवारों के भीतर बैठकर कभी नहीं प्राप्त कर सकते है। मैं हमेशा मानता आया हूँ कि “Travel is our best teacher” जब आप उन चार दीवारों से बाहर निकलते है तो कई…

View details

दुनिया को अपनी कक्षा बनाओ

अन्वेषक: स्नेहल त्रिवेदी व्यवसाय: जैविक किसान स्थान: औरोविल अपनी पूरी ज़िंदगी एक ग्राफिक डिज़ाइनर की तरह बिताने वाले स्नेहल त्रिवेदी को दो वर्षो तक जब इंग्लैंड मे रहने का मौका मिला, तब पाश्चत्य संस्कृति और शहर की तेज़ रफ़्तार ज़िंदगी से उनका मन भर गया। कुछ वर्ष पूर्व फिर से अपनी जड़ों से जुड़ने की चाहत मे उन्होने इंग्लैंड से आकर औरोविल के समीप एक छोटे से गाँव में अपनी एक नयी ज़िंदगी का सफर शुरू किया। 2007 मे उन्होने औरोविल के समीप एक छोटे से गाँव मे एक एकड़ बंजर ज़मीन खरीदी, उनका सपना था की वे इस ज़मीन पर अपने लिए एक छोटा सा घर बनाए जो पूरी…

View details

विकास के लिए प्रकृति का दोहन

अन्वेषक: मीनाक्षी उमेश व्यवसाय: वैकल्पिक शिक्षाविद् स्थान: धर्मापुरी, तमिलनाडु आज पूरी दुनिया मनुष्यों के द्वारा की गयी गलतियों के कारण जलवायु परिवर्तन के विनाशकरी प्रभावों का अनुभव कर रहीं है, पानी की गुणवत्ता में कमी, मिट्टी का क्षरण, बाढ़, बढ़ते तापमान, बारिश के पैटर्न में अप्रत्याशित परिवर्तन, और जैव विविधता के नुकसान, समुद्र के जलस्तर का बढ़ना जैसी कई विनाशकरी चुनौतियाँ हमारे सामने सिर उठा के खड़ी हैं और हमारा मज़ाक उड़ा रही है। इन समस्याओं का सबसे ज्यादा प्रभाव उन लोगों पर होता है जो सीधे तौर पर प्रकृति के साथ मिलकर अपना जीवन जीते है और वे लोग जो प्रकृति को अपना भगवान मानते है। ये किसान, मछुआरे,…

View details

तितलियों से फूलेगा-फलेगा हमारा संसार

अन्वेषक: सममिलन व्यवसाय: तितली संरक्षणवादी स्थान: मैंगलूरू, कर्नाटक तितलियाँ सदियों से मनुष्यों को आकर्षित करती आई है। उनके रंग-बिरंगे पंख हमे प्रकृति की खूबसूरती दर्शाते है। बच्चों को उनका पीछा करना अच्छा लगता है, कवि उनकी खूबसूरती से मोहित होकर कवितायें लिखते है। उनका प्रवास चक्र कई बुद्धिमान शोधकर्ताओं और वेज्ञानिकों के लिए अभी भी एक अबूझ पहेली है और विषम खोज का विषय है। प्रकृति प्रेमियों के लिए तितलियाँ जीवन का आधार है, जिनहोने धरती पर जीवन को बनाए रखने मे अपना अनमोल योगदान दिया है। वे इसके लिए कृतज्ञ है और शायद समय आ गया है कि हम भी इन रंग-बिरंगे खूबसूरत जीवों के प्रति अपनी कृतज्ञता दर्शाये…

View details

कहानियां, समाज का एक आइना

अन्वेषक: प्रिया मुथुकुमार व्यवसाय: कथावाचक स्थान: चेन्नई आदिकाल से मनुष्य का कहानियों के साथ अनूठा सम्बंध रहा है। कहानी कहना एक कला है। इतिहास के पन्नों को अगर हम पलटकर देखें तो, हमारे पूर्वज चित्रों के माध्यम से प्राचीन गुफाओं मे हमारे लिए कई कहानियाँ कहकर गए है। एक तरफ जहाँ मनुष्य प्रजाति के क्रमिक विकास मे इस कला ने महत्वपूर्ण योगदान दिया है, वहीं दूसरी तरफ मनुष्य ने अपने विकास के साथ इस कला को भी विकसित किया है। कह सकते है की मनुष्य प्रजाति का विकास और कहानी कहने की कला एक-दूसरे के पूरक है। एक के विकास के बिना दूसरे का विकास संभव नहीं है। दूसरे शब्दों…

View details

लोकसाहित्य में छिपा पर्यावरण संरक्षण का मंत्र

अन्वेषक: शांति नायक व्यवसाय: लोकसाहित्य संरक्षणवादी  स्थान: होनावर, कर्नाटक मानव द्वारा हजारों वर्षों से इस्तेमाल किए जा रहे, जंगली जैविक भोजन, प्राकृतिक संसाधनों से बने आश्रय और सांस्कृतिक गतिविधियों की संख्या आज विलुप्त हो चुकी हैं। इन संसाधनों के प्रयोग की विधियों को मानव ने अपनी परिस्तिथि को ध्यान मे रखते हुए विकसित किया था। अतीत में विकसित किए गए इस ज्ञान को मानव ने अपनी बहुमूल्य निधि के रूप में सहेज कर रखा हुआ था। पिछले 150 सालों से चली आ रही औद्योगिक क्रांति के प्रभाव में यह ज्ञान लुप्त होता जा रहा है। हमारी शिक्षण व्यवस्था और पाठ्यपुस्तकों में इसकेलिए कोई जगह ही नहीं रखी गयी है। हमें…

View details

विस्थापित प्रणाली से विस्थापित ज़िन्दगी

अन्वेषक: राघव व्यवसाय: प्राकृतिक किसान स्थान: दवानगेरे,कर्नाटक "हाँ सचमुच! प्राकृतिक प्रणालिया एक उल्लेखनीय फिर से निरंतर चक्र में परिणत करने की नवीनीकृत प्रवृत्ति है। किसानों के रूप में , हम इन चक्रों के साथ काम करते हैं और प्रकृति को खुद पनपने के लिए छोड़ देते है। जब भी जरूरत होगी यह स्वयं धीमा होगा या तेज़ "- राघव प्राकृतिक कृषि, मानव दखल के हस्तक्षेप से मुक्त पर आधारित है कृषि की एक प्रक्रिया । यह मानव ज्ञान और क्रियाओं द्वारा प्रकृति मे किए गए विनाश को पुनः बहाल करने और मानव के प्रकृति से लिए गए तलाक को पुनः एक सजीव रिश्ते मे बदलने का एक प्रयास है। राघवा…

View details

A naturally healthy bond

Innovator: Varsha Samuel Rajkumar Vocation: Organic gardener Location: Dharwad, Karnataka Most of us, at some point of time in life, have felt a strong desire to get out of the house and spend time amid nature. This desire need not always involve travel but it could be to sit in our balcony and stare at the sky or lie down on the grass in the park or take an early morning stroll. But I wonder what is it that makes us feel calm and at peace when we’re close to nature? Does proximity to nature distances us from negative thoughts? What is the reason that we find ourselves happy when…

View details

पर्यावरण संरक्षण,सुरक्षा व रोज़गार

अन्वेषक: पराग मोदी व्यवसाय: पर्यावरण आदिवक्ता स्थान: मोर्गोया, गोवा अपनी पिछली दो कहानियों की तरह मुझे अपने नए परिंदे की कहानी से भी आधुनिक सामाजिक व्यवस्था से उत्पन्न पर्यावरण के सबसे बड़े खतरे] कचरे की समस्या को और करीब से जानने का अवसर प्राप्त हुआ है। हमारे पिछले परिंदे जहां इस समस्या के प्रति जागरूकता जगाने का प्रयास कर रहे थे] वही पराग अपने बिज़नस के माध्यम से, जो कचरा इस धरती पर फैला हुआ है उसको इस धरती के लिए कैसे बहुमूल्य खजाने मे तब्दील कर सकते है? और उस कचरे से कैसे अपने लिए आजीविका प्राप्त कर सकते है?, बताने की कोशिश कर रहे है। एक आंकड़े के…

View details